बुधवार, अक्तूबर 14

जीवन - मरण

 जीवन - मरण 

अछूते निकल जाते हैं वे  

हर बार मृत्यु से 

पात झर जाता है 

पर जीवन शेष रह जाता है

वृक्ष रचाता है नव संसार 

जब घटता है पतझर

नई कोंपलें फूटती हैं 

वैसे ही जर्जर देह गिर जाती है  

नया तन धरने  

जब सताता हो मृत्यु का भय 

तब जीते जी करना होगा इसका अनुभव 

देह से ऊपर उठ 

जैसे हो जाते हैं ऋषि पुनर्नवा 

देह वृद्ध हो पर मन शिशु सा निष्पाप 

या बालक सा अबोध 

तब देह भी ढल जाती है उसके अनुरूप 

चेतना के आयाम  में पहुंचकर ही 

नव निर्माण होता है अणुओं का 

जैसे वृक्ष धारण करता है नव पात 

योगी को मिलता है नव गात !


9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 15.10.2020 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी|
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  2. 'पात झर जाता है

    पर जीवन शेष रह जाता है'

    बहुत सही कहा आपने।

    जवाब देंहटाएं