गुरुवार, अक्तूबर 8

प्रार्थना

 प्रार्थना 

जो दिया है तूने हे प्रभु !

असीम है 

नहीं समाता इस झोली में 

तू दिए ही जाता है 

तेरी अनुकम्पा की क्या कोई सीमा है ?

उदार मालिक द्वारा दिए गए अतिरिक्त धन की तरह 

तू भरे जाता है संसार 

मेरा मन झुका है तेरे कदमों में 

बैठा नहीं जाता देर तक 

दुखती है बूढ़ी हड्डियाँ

करवटें बदलते बीतती है रात 

फिर भी जगाता है तू हर प्रभात 

रखता है सिर पर अपना हाथ 

मेरा मन डूब जाता है 

आकाश की तरह विस्तृत उस आनंद में 

जो तू बरसा ही रहा है  

अनवरत ! 


9 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 09-10-2020) को "मन आज उदास है" (चर्चा अंक-3849) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित है.

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर।
    अच्छी कामना और धन्यवाद का सुन्दर संगम।

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शुक्रवार 09 अक्टूबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं