मंगलवार, जनवरी 4

कौन हो तुम ?

कौन हो तुम ?

सुंदर मुखड़ा तुमने पाया
कोमल केश नशीली ऑंखें,
चमक रही चन्दन सी काया !

किन्तु नहीं तुम देह, कौन हो तुम ?

तन के भीतर धड़क रहा मन
सुख-दुख, आस-निरास का डेरा,
नित राग-द्वेष के बांधे बंधन !

किन्तु नहीं तुम मन, कौन हो तुम ?

सुमति, सुबुद्धि की अधिकारी
सही गलत का भेद जानती,
कर्म सदा करती हितकारी !

किन्तु नहीं तुम मति, कौन हो तुम ?

मन, बुद्धि पर मोहर लगाता
स्वयं को करता-धर्ता माने,
अहं भाव सदा भरमाता !

किन्तु नहीं तुम अहं, कौन हो तुम ?

अनंत प्रेम का जो है सागर
सत चिद आनंद रूप है जिसका,
छलकाता मस्ती की गागर !

वही शुद्ध स्वरूप हो तुम, हो निर्दोष शुद्ध आत्मा !

अनिता निहालानी
५ जनवरी २०११  

9 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर मुखड़ा तुमने पाया कोमल केश नशीली ऑंखें, चमक रही चन्दन सी काया !

    बहुत सुंदर -
    आत्मा तो निर्मल है ही..!!
    शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सही कहा आत्मा का ही इतना सुन्दर रूप हो सकता है.
    सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आत्मा का स्वरुप सुंदरता से चित्रित!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनीता जी,

    शब्द नहीं हैं मेरे पास उस अनकहे को व्यक्त करने के लिए ......वाह......मेरा मौन ही प्रमाण है |

    उत्तर देंहटाएं
  5. बधाई स्वीकार करें सुंदर रचना के लिए |

    उत्तर देंहटाएं
  6. उस अव्यक्त को संदर रूप में व्यक्त करदिया आपने!

    उत्तर देंहटाएं