गुरुवार, जनवरी 13

आप सभी को मकर संक्रांति के पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ !

Posted by Picasa
मकर संक्रांति पर कुछ दोहे

मकर राशि में सूर्य का हो रहा प्रवेश
संक्रांति काल लेकर आया पर्व विशेष !

उत्तर में खिचड़ी कहें दक्षिण में है पोंगल
लोहड़ी जो पंजाब में असम में बीहू मंगल !

लकड़ी का एक ढेर हो शीत मिटाए आग
बैर कलुष जल खाक हों पर्व मनायें जाग !

मीठे गुड में तिल मिले नभ में उड़ी पतंग
लोहड़ी की इस आग ने दिल में भरी उमंग !

दाने भुने मकई के भर रेवड़ियाँ थाल
अंतर में उल्लास हो चमकें सबके भाल !

अनिता निहालानी
१३ जनवरी २०११   

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपको मकर संक्रांति के पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ !"

    उत्तर देंहटाएं
  2. मीठे गुड में तिल मिले नभ में उड़ी पतंग लोहड़ी की इस आग ने दिल में भरी उमंग !

    बहुत सुंदर प्रस्तुति -
    शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. लकड़ी का एक ढेर हो शीत मिटाए आग
    बैर कलुष जल खाक हों पर्व मनायें जाग !

    मकरसंक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनीता जी आपको और आपके परिवार को इस पर्व की ढेरों शुभकामनायें|

    उत्तर देंहटाएं
  5. हुत खूब ! सरल सामयिक और सुन्दर रचना ! शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. अनीता जी !! बेहद सुन्दर रचना है समय के अनुसार ...आपको भी लोहड़ी और मकर सक्रांति पर हार्दिक शुभ कामनाएं ! आपकी यह रचना और ब्लॉग कल चर्चामंच पर होगा .. www.charchamanch.uchcharan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. लकड़ी का एक ढेर हो शीत मिटाए आग
    बैर कलुष जल खाक हों पर्व मनायें जाग
    बहुत सुंदर अनीता जी ......हार्दिक शुभकामनायें आपको भी.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. सक्रांति ...लोहड़ी और पोंगल....हमारे प्यारे-प्यारे त्योंहारों की शुभकामनायें आपको भी .....सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपको मकर संक्रांति के पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं