शुक्रवार, फ़रवरी 4

आया वसंत





आया वसंत

नव वसंत की नई भोर का
तन-मन में जागी हिलोर का
उल्लसित हो करें स्वागत !

नयी प्रीत हो नयी रीत हो
नव ऊर्जा से रचा गीत हो,
नया जोश हो नव उमंग हो
हर दिल में छायी तरंग हो !

मधुमास के नए प्रातः का
नए तराने नयी बात का
हर्षित हो करें स्वागत !

नए इरादे नए कायदे
इस वसंत में नए वायदे,
नए रास्ते नयी मंजिलें
नव ऋतु में नए सिलसिले !

नव बहार की नई सुबह का
नई मित्रता नई सुलह का
प्रफ्फुलित हो करें स्वागत !

अनिता निहालानी
४ फरवरी २०११
 


Posted by Picasa

3 टिप्‍पणियां:

  1. वाह बहुत अच्छी कविता है. और तस्वीर भी. मन-मस्तिष्क में वसंत उमड़ आया. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनीता जी,

    वसंत का खुबसूरत अंदाज़ में स्वागत किया है आपने.....शुभकामनायें|

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह अनिता जी वाह , बहुत खूबसूरत और भावुकता पूर्ण कोमल अहसास

    उत्तर देंहटाएं