शनिवार, फ़रवरी 5

पुण्य सम पावन यह प्यार


पुण्य सम पावन यह प्यार

अनसुनी जाने न पाए
मीत की कोई पुकार,
कौन जाने कब मिलेगी
झूमती गाती बहार !

कौन जाने कब खिलेगा
 पुण्य सम पावन यह प्यार !

आँख भर के देख लो
बूंद कितनी देर ठहरी,
सप्तवर्णी अमिय धारे
ज्यों मधुर संगीत लहरी !

हो तिरोहित पूर्व उसके
थाम लो बन जाओ धार !
कौन जाने कब खिलेगा?
 पुण्य सम पावन यह प्यार !

खोजने का तुम जिसे
कर रहे अभिनय युगों से,
पांव रखे हो उसी पे
बँध अदेखी बेड़ियों से !

खोल दृग देखो यदि तुम
जग किये सोलह सिंगार !
कौन जाने कब खिलेगा?
 पुण्य सम पावन यह प्यार !

अनिता निहालानी
५ फरवरी २०११







9 टिप्‍पणियां:

  1. खोजने का तुम जिसे
    कर रहे अभिनय युगों से,
    पांव रखे हो उसी पे
    बँध अदेखी बेड़ियों से !

    गहन चिंतन से परिपूर्ण प्रेरक प्रस्तुति..बहुत प्रवाहपूर्ण

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनीता जी,

    सुन्दर भावो से सजी सुन्दरतम रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  3. खोजने को तुम जिसे
    कर रहे अभिनय युगों से
    पाँव रखे हो उसी पे
    बंध अदेखी बेड़ियों से
    बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह एक ऐसी संवेद्य कविता है जिसमें हमारे यथार्थ का मूक पक्ष भी बिना शोर-शराबे के कुछ कह कर पाठक को स्पंदित कर जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय अनिता जी
    नमस्कार !
    हो तिरोहित पूर्व उसके थाम लो बन जाओ धार ! कौन जाने कब खिलेगा? पुण्य सम पावन यह प्यार !
    ..........बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुछ दिनों से बाहर होने के कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका
    माफ़ी चाहता हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  7. अनिता जी सादर अभिवादन

    मुक्त छन्‍द बद्ध प्रस्तुतियां आज के दौर में बहुत ही कम पढ़ने को मिलती हैं| आपकी सन्दर्भित कृति अत्यन्त मनभावन लगी|
    समस्या पूर्ति ब्लॉग [http://samasyapoorti.blogspot.com/] से जुड़ने हेतु निवेदन|
    आपकी ई-मेल आइ डी navincchaturvedi@gmail.com पर भेजने की कृपा करें|

    उत्तर देंहटाएं
  8. खोजने का तुम जिसे
    कर रहे अभिनय युगों से,
    पांव रखे हो उसी पे
    बँध अदेखी बेड़ियों से !
    सुंदर अतिसुन्दर , कई अर्थों को अपने में समाये हुई रचना, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. दिल को छूने वाली खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं