सोमवार, फ़रवरी 7

टूटी विस्मृति मन की

टूटी विस्मृति मन की

ओंउम् की पुकार उठी
हुई जागृत रग-रग तन की
रेशा रेशा लहराया
टूटी विस्मृति मन की !

श्वासों की डोर चली
मन पतंग हो उठा
तोड़ तन के बंधन  
उड़ा किया चिदाकाश में !

लहर उठी श्वासों की
मानस तब हँस हुआ
तिरता रहा अनवरत
भावों के सरवर में !

श्वासों का पट बना
घिस घिस मन चमकाया
झलक उठा चिन्मय
अंतर के दर्पण में !

पुल बना श्वासों का
मानस की धारा पर
चल पड़ा यायावर
अनंत की खोज में !

श्वासों का दीप जला
हुआ उजाला भीतर बाहर
मन माणिक जगमगाया
अकम्पित लौ में !

माल गुंथी श्वासों की
ओंउम् के सुमनों से
थाम चला हाथों में
प्रियतम की खोज में !

श्वासों की बनी समिधा
मन हवन कुंड बना
सत्य तब प्रकट हुआ
ओंउम्.. ओंउम्... ओंउम्....!
 अनिता निहालानी
७ फरवरी २०११  

5 टिप्‍पणियां:

  1. ॐ ...ॐ ...ॐ
    अध्यात्मिक ऊंचाई की सुन्दर सरस रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. वसन्त की आप को हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनीता जी,

    हर बार की तरह उपस्थित हूँ :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. उपस्थिति के लिये शुक्रिया शब्द छोटा है, फिर भी कहना तो शब्दों के माध्यम से ही है !

    उत्तर देंहटाएं