शुक्रवार, दिसंबर 17

जीवन जैसे खेल क्रिकेट का

जीवन जैसे खेल क्रिकेट का

द्वंद्वों सम दो टीमें जिसमें
प्रतिद्वंदिता हर पल इसमें,
चारों ओर घिरे फील्डर
शुभचिंतक हैं पैवेलियन में !

सँग जो साथी दूर खड़ा है,
विकेट कीपर का डर बड़ा है.

परिस्थितियों की गेंदें आतीं
कितनी खुद को नहीं सुहातीं,
फिर भी चौके, छक्के मारें
जीवन कला यही सिखाती !

अनिता निहालानी
१७ दिसंबर २०१०

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी पोस्ट की चर्चा कल (18-12-2010 ) शनिवार के चर्चा मंच पर भी है ...अपनी प्रतिक्रिया और सुझाव दे कर मार्गदर्शन करें ...आभार .

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. सँग जो साथी दूर खड़ा है,
    विकेट कीपर का डर बड़ा है

    क्रिकेट के खेल के माध्यम से जीवन संघर्ष का बहुत सटीक विवेचन..बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. खेल के माध्यम से जीवन की सच्चाईयां अभिव्यक्त करती सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं