गुरुवार, अगस्त 25

कौन फूल खिलने से रोके

कौन फूल खिलने से रोके 
  
बहे न दिल से धार प्रीत की
जाने कितने पाहन रोकें, 
हरियाली उग सकती थी जब 
कौन फूल खिलने से रोके !

सहज स्पंदित भाव क्यों उठते  
तर्कों के तट बांध लिए जब,
घुट कर रह जाती जब करुणा  
कैसे जगे ख़ुशी भीतर तब !

एक बीज धरती में बोते 
बना हजार हमें लौटाती,
इक मुस्कान हृदय से उपजी 
अनगिन दिल के शूल मिटाती !

बहना ही होगा मन को नित 
अंतर का सब प्यार घोलकर, 
भरते रहना होगा घट को 
उस अनाम का नाम बोलकर !

 उसी एक का प्रेम जगत में 
लाखों के अंतर  में झलके,
जो दिल इसमें भीग गया हो 
पा जाता है खुद को उसमें !

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहना ही होगा मन को नित
    अंतर का सब प्यार घोलकर,
    भरते रहना होगा घट को
    उस अनाम का नाम बोलकर !....बहुत सुंदर!

    जवाब देंहटाएं
  2. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शुक्रवार 26 अगस्त 2022 को 'आज महिला समानता दिवस है' (चर्चा अंक 4533) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है। 12:01 AM के बाद आपकी प्रस्तुति ब्लॉग 'चर्चामंच' पर उपलब्ध होगी।

    जवाब देंहटाएं
  3. मन को छूती
    बेहद खूबसूरत रचना

    जवाब देंहटाएं
  4. प्रतीकात्मक शैली में सुंदर भाव सृजन।
    अभिनव।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर सृजन आदरणीय दी।

    जवाब देंहटाएं
  6. कुसुम जी, ओंकार जी व अनीता जी, आप सभी का स्वागत व आभार !

    जवाब देंहटाएं