बुधवार, जुलाई 23

किसकी बाट जोहता यह उर


किसकी बाट जोहता यह उर


नीले नभ पर ज्यों बदलियाँ
नूतन रंगों से रंग जातीं,
अंतर के कोरे कागज पर
सुधियाँ कोई नृत्य सजातीं !

जाने किस दिन की बातें हैं
जाने किस पल की यादें हैं,
कोई तार नजर न आता
फूलों की लड़ियाँ पिर जातीं !

मन उड़ने-उड़ने को होता
कहने को कुछ भी न होता,
 अधर कांपते, मौन हृदय में
मधुरिम छायाएं घिर आतीं !

किसकी बाट जोहता यह उर
किसके हित बजते अंतर सुर,
मिलकर भी जो कभी न मिलता
उसकी चुप पुकार तड़पाती !

पल-पल आने की आहट है
मधुर अति यह अकुलाहट है,
जाने कैसा रूप धरेगा
प्रतिभिज्ञा मति कर न पाती !


2 टिप्‍पणियां:

  1. चली गोरी पी से मिलन को चली। ये पी ही हमारा सेल्फ है ,ब्रह्म है ईश्वर है ये सारी सृष्टि है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्वागत व आभार वीरू भाई !

    उत्तर देंहटाएं