गुरुवार, जुलाई 17

अँधेरे के पार


अँधेरे के पार



प्रकाश की एक दूधिया नदी
बहती है भीतर
जिसका कोई तट नजर नहीं आता
एक अंतहीन सन्नाटे की गूँज
जिसकी लहरों में सुनाई देती है
अदृश्य कमलों की गंध भी चली आती है
खो जाते हैं स्पंदन.. और
जम जाता है शिराओं में बहता रक्त
थम जाता है ज्यों सृष्टि का सारा व्यापार
 एक मधुर रस टपकता है
दिग दिगंत से
सहेजते हैं अदेखे हाथ
महसूस होती है छुअन बन परस
नृत्य घटता है कहीं गहराइयों में
नजर नहीं आता पर कोई नर्तक !


4 टिप्‍पणियां:

  1. कैसे अती न्द्रिय बोध - जैसे गूँगे का गुड़!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत गहराई हैं भाव में
    बार बार पढ़ा क्र ही समझ आई कविता

    शुभकामनाए

    उत्तर देंहटाएं