गुरुवार, जुलाई 10

इंगित हर शै तुझको करती

इंगित हर शै तुझको करती



कैसे हो अभिसार हमारा !

तुम वासी हो नीलगगन के
उस अपंक निरभ्र नीरव के,
माटी के तन में हम रहते
सने पंक में उड़ ना पाते !

कैसे उर स्वीकार हमारा !

 अभिराम ! वैकुंठ निवासी
छलते अविरत निज माया से,
अर्घ्य चढ़ाता भक्त बना जो
डर जाता है निज छाया से !

हो कैसे उद्धार हमारा !

अर्थाकुल उर प्रश्न पूछता
उपालम्भ भी एक लिए है,
कृपा का बादल बरस रहा जब
अवलम्ब क्यों और दिए हैं !

किस पर है अधिकार हमारा !

इंगित हर शै तुझको करती
आर्त हुआ हर उर यह जाने,
किन्तु भुलावे में रख स्वयं को
उन्मन सा हर दुःख को माने !

जीवन है उपहार तुम्हारा !

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर और सारगर्भित रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति-
    आभार आपका-

    उत्तर देंहटाएं
  3. रहस्यवाद के मूल में यही जिज्ञासा और मिलन की आकांक्षा समायी हुई है प्रसाद ,महादेवी आदि के काव्य में इसी की अभिव्यक्ति हुई है .

    उत्तर देंहटाएं
  4. इंगित हर शै तुझको करती
    आर्त हुआ हर उर यह जाने,
    किन्तु भुलावे में रख स्वयं को
    उन्मन सा हर दुःख को माने !
    ....अगर यह समझ पायें तो कितना नज़दीक होंगे उसके...बहुत गहन और उत्कृष्ट अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. डा. जेन्नी, डा. मोनिका, रविकर जी, प्रतिभा जी तथा कैलाश जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं