सोमवार, मई 18

आदि - अंत

आदि - अंत 

आदि में 'एक' ही था 
'एक' के सिवा दूसरा नहीं था 
फिर विभक्त किया उसने स्वयं को 'दो' में 
एक वामा कहलायी, बांये अंग में बैठने वाली 
दूसरा अथक श्रम से सृष्टि का संधान करने वाला 
दोनों में कोई छोटा-बड़ा न था 
एक प्रेम की मधुर रस धार थी 
एक घर बनाकर प्रतीक्षा करती 
दूसरा दुनिया जहान से पदार्थ लाता 
वह सेविका बनकर भी मालकिन थी 
वह स्वामी बनकर भी याचक था 
तब जीवन सहज था क्योंकि 
विरोधी पक्ष एक दूसरे में समाहित थे 
काल की धारा में सब बदलने लगा 
एक विस्तार पाता गया जितना 
घर से दूर होता गया 
प्रेम को बंधन मानकर तिरस्कार किया 
दूसरी भी अपमान से कुंठित हुई 
नए-नए रूप धर  लुभाने लगी 
जीवन खंड-खंड हो गया 
प्रेम ही है घर का आधार 
यदि न बचे तो बिखर जाता है संसार !

16 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज मंगलवार (19 -5 -2020 ) को "गले न मिलना ईद" (चर्चा अंक 3706) पर भी होगी, आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    ---
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  2. सही कहा आपने कि प्रेम ही समरसता का आधार है।

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी बात से पूर्णतः सहमत हूँ ... साइकल के दोनों पहियों का एक सामान होना जरूरी है ... आदर, विश्वास, प्रेम, सामान मिल कर ही समरसता आएगी ...

    जवाब देंहटाएं
  4. प्रेम ही बाँधे है सबको नहीं ,सब बिखर जाय.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कह रही हैं आप, प्रेम का यह बंधन सबसे अनमोल है

      हटाएं
  5. प्रेम है तो सृष्टि है।
    सुंदर अभिव्यक्ति अनिता जी।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. और प्रेम ही तो जीवन दृष्टि है, शुक्रिया श्वेता जी !

      हटाएं
  6. प्रेम जीवन का आधार है
    भावपूर्ण रचना

    पढ़े--लौट रहे हैं अपने गांव

    जवाब देंहटाएं
  7. वह सेविका बनकर भी मालकिन थी 
    वह स्वामी बनकर भी याचक था 
    काल की गति....
    समर्पण भाव से लोग रिक्त है आज

    शनैः शनै प्यार और समरसता का ह्रास हो हो रहा है। आज शेष है तो केवल 'मैं'.


    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कह रही हैं आप, मैं केवल दुःख में ही ले जाता है

      हटाएं