गुरुवार, अगस्त 19

इक अकुलाहट प्राणों में

इक अकुलाहट प्राणों में

 

इक दुःख की चाहत की है

जो मन को बेसुध कर दे,

कुछ कहने, कुछ ना कहने

दोनों का अंतर भर दे !

 

इक पीड़ा माँगी उर ने

जो भीतर तक छा जाये,

फिर वह सब जो आतुर है ​

आने को बाहर आये !

 

इक बेचैनी सी हर पल

मन में सुगबुग करती हो,

इस रीते अंतर्मन का

कुछ खालीपन भरती हो !

 

इक अकुलाहट प्राणों में

इक प्यास हृदय में जागे,

सीधे सपाट मरुथल में

चंचल हरिणी सी भागे 

 

14 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार (20-08-2021) को "जड़ें मिट्‌टी में लगती हैं" (चर्चा अंक- 4162) पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद सहित।

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. इसलिए तो महाजनों ने वरदान में एक-आध पाव दु:ख की कामना करते रहे ताकि प्रभू और स्वयं का स्मरण सतत् होता रहे । अति सुन्दर भाव एवं कथ्य ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा है अमृता जी, कुंती ने भी कृष्ण से यही प्रार्थना की थी, स्वागत व आभार !

      हटाएं
  3. "दुःख में सुमिरन सब करै ",अत्यंत प्रभावशाली रचना !!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दुःख मन को मांजता है, स्वागत व आभार !

      हटाएं
  4. कुछ कहने, कुछ ना कहने दोनों का अंतर भर दे। इस जीवन-दर्शन का अपना मूल्य है अनीता जी। अच्छी काव्याभिव्यक्ति है यह आपकी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जब सुनने वाला बिन कहे ही समझ जाये तब ही ऐसा सम्भव है, स्वागत व आभार !

      हटाएं
  5. सुंदर मनन चिंतन,सुंदर जीवन दर्शन।

    जवाब देंहटाएं
  6. जीवन में ऐसा चिंतन किसी न किसी मार्ग पर ले ही जाता है ...

    जवाब देंहटाएं