रविवार, सितंबर 19

​​​​​​एक हँसी भीतर सोयी है

​​​​​​एक हँसी भीतर सोयी है 


रुनझुन-झुन धुन जहाँ गूंजती

एक मौन भीतर बसता है,

मधुरिम मदिर ज्योत्सना छायी

नित पूनम निशिकर  हँसता है !


निर्झर कोई सदा बह रहा 

एक हँसी भीतर सोयी है, 

अंतर्मन की गहराई में 

मुखर इक चेतना सोयी है !


जैसे कोई पता खो गया 

एक याद जो भूला है मन, 

भटक रहा है जाने कब से 

सुख-दुःख में ही झूला है तन !


ज्यों इक अणु की गहराई में 

छिपी ऊर्जा  है अनंत इक, 

एक हृदय की गहराई में 

छिपा हुआ है ​​​​कोई रहबर !



16 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार(२०-०९-२०२१) को
    'हिन्दी पखवाड़ा'(चर्चा अंक-४१९३)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. गूढ़ार्थ युक्त अच्छी कविता है यह आपकी। अभिनंदन। द्वितीय पद की अंतिम पंक्ति को 'मुखर चेतना इक सोयी है' लिखना सम्भवतः अधिक उपयुक्त रहता।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका सुझाव अति समुचित है, स्वागत व आभार!

      हटाएं
  3. मन ही तो अनेक अलंकरण की खान है !!बहुत सुंदर !!

    जवाब देंहटाएं
  4. ज्यों इक अणु की गहराई में
    छिपी ऊर्जा है अनंत इक,
    एक हृदय की गहराई में
    छिपा हुआ है ​​​​कोई रहबर !
    ----
    अध्यात्मिक भाव लिए अत्यंत सुंदर सृजन।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति!
    अत्यंत गहरे भाव!

    जवाब देंहटाएं
  6. हँसी की रूनझुनी खनक आह्लादित कर रही है । सदैव की भांति अति सुन्दर भाव सृजन ।

    जवाब देंहटाएं