मंगलवार, फ़रवरी 23

दिल की दास्तां

दिल की दास्तां 


जरा गौर से देखा तो यही पाया 

मगज है कि शिकायतों का इक पुलिंदा 

जो हर बात पे खफा रहता था

 यूँ तो जमाने के लिए बंद था दिल का द्वार 

पर उनमें ही हो जाता था 

खुद का भी शुमार 

 क्योंकि दिल से होकर ही खुशी उतरती है भीतर 

जब-जब कोई नाराज है जमाने से 

तब-तब दूर है दिल के खजाने से 

औरों के लिए न सही 

खुद के लिए मुसकुराना मत छोड़ो 

बेदर्द है जमाना कहकर 

दिल पर पत्थरों की दीवार मत जोड़ो

यह दुश्वारियाँ नहीं सह सकता 

बहुत नाजुक है 

अपना हो या औरों का 

इसे भूलकर भी मत तोड़ो 

यह टूट जाता है जब कोई उदास होता है 

चुप सी लगाकर बेबात ही खुद से खफा होता है 

जिस तरह भी रहे कोई जमाने में 

बस दूर न रहे दिल के तराने से 

जो वह गाता है दिन-रात 

हम अनसुना करते हैं 

और यूँ ही गम के आंसुओं से दामन भरते हैं !

 

19 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (24-02-2021) को     "नयन बहुत मतवाले हैं"  (चर्चा अंक-3987)    पर भी होगी। 
    --   
    मित्रों! कुछ वर्षों से ब्लॉगों का संक्रमणकाल चल रहा है। आप अन्य सामाजिक साइटों के अतिरिक्त दिल खोलकर दूसरों के ब्लॉगों पर भी अपनी टिप्पणी दीजिए। जिससे कि ब्लॉगों को जीवित रखा जा सके। चर्चा मंच का उद्देश्य उन ब्लॉगों को भी महत्व देना है जो टिप्पणियों के लिए तरसते रहते हैं क्योंकि उनका प्रसारण कहीं हो भी नहीं रहा है। ऐसे में चर्चा मंच विगत बारह वर्षों से अपने धर्म को निभा रहा है। 
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार शास्त्री जी ! ब्लॉग जगत के लिए चर्चा मंच का योगदान अप्रतिम है

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 24 फरवरी 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. "जिस तरह भी रहे कोई जमाने में

    बस दूर न रहे दिल के तराने से "


    बहुत अच्छी बात कही आपने।

    जवाब देंहटाएं
  4. कितनी अच्छी सीख है । लेकिन हम हमेशा कहाँ इस बात का ध्यान रख पाते । सुंदर प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कह रही हैं आप, इसका खामियाजा भी उठाते हैं

      हटाएं
  5. दिल और दिमाग़ दोनो का उचित समन्वय बहुत आवश्यक है.

    जवाब देंहटाएं
  6. औरों के लिए न सही
    खुद के लिए मुसकुराना मत छोड़ो
    बेदर्द है जमाना कहकर
    दिल पर पत्थरों की दीवार मत जोड़ो
    ----------------------------
    आप का यह दर्शन बहुतों का मार्गदर्शन कर सकता है। एक बेहद सुंदर और सार्थक सृजन के लिए आपको ढेरों शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  7. उत्तम अभिव्यक्ति !
    औरों के लिए न सही
    खुद के लिए मुसकुराना मत छोड़ो
    बेदर्द है जमाना कहकर
    दिल पर पत्थरों की दीवार मत जोड़ो!
    लाजवाब!
    --ब्रजेंद्रनाथ

    जवाब देंहटाएं
  8. आप सभी सुहृदयी पाठकों का स्वागत व आभार !

    जवाब देंहटाएं