सोमवार, जुलाई 4

अनजानी राहों से आकर


अनजानी राहों से आकर 

एक बात भूली बिसरी सी 
एक स्वपन चिर काल पुराना,
एक तंतु जो जोड़े तुझ से 
मधुरिम स्मृति की बहती धारा !

कोई  है जो छिपा हुआ भी 
जैसे चारों ओर बिछा है, 
शब्दों  की गहराई में जो 
मीलों मधुर मौन फैला है !

सुरभि लिए पवन  का झोंका
ज्यों उसका संदेशा लाये, 
कोयल की मधु कूजन जैसे 
सुमिरन की माला सी गाये !

कोई तार जुड़ा है जैसे 
मन क्यों उसकी राह ताकता,
अनजानी राहों से आकर 
सुधिया अपनी फिर भर जाता !

जीवन कोई बंद द्वार ज्यों 
अपनी ओर बुलाता सबको, 
ज्यों उज्ज्वल उपहार प्रीत का 
सहज बँट रहा पालो इसको !

15 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन कोई बंद द्वार ज्यों
    अपनी ओर बुलाता सबको,
    ज्यों उज्ज्वल उपहार प्रीत का
    सहज बँट रहा पालो इसको !

    न जाने यादों के तार किससे और कितने गहरे जुड़े हैं । बेहतरीन रचना ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुंदर व त्वरित प्रतिक्रिया हेतु आभार संगीता जी!

      हटाएं
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार(०५-०७ -२०२२ ) को
    'मचलती है नदी'( चर्चा अंक-४४८१)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. कोई तार जुड़ा है जैसे
    मन क्यों उसकी राह ताकता,
    अनजानी राहों से आकर
    सुधिया अपनी फिर भर जाता !
    ..ये तार ही तो है जो खींच ले जाते हैं हमें उस ओर

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह अनुभूतियों के आदान प्रदान के लिये तार जुड़ना ही सबसे पहली और अनिवार्य बात है . बहुत गहरी और व्यापक अर्थ लिये सुन्दर कविता .

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुंदर प्रतिक्रिया हेतु बहुत बहुत आभार गिरिजा जी !

      हटाएं
  5. बहुत सुंदर सराहनीय रचना ।

    जवाब देंहटाएं