मंगलवार, नवंबर 9

मन चातक सा तकता रहता


मन चातक सा तकता रहता 


सागर के तट पर बैठा हो  

फिर भी कोई, प्यासा ! कहता, 

जीवन बन उपहार मिला है 

मन चातक सा तकता रहता !


अभी बनी खोयी पल भर में 

लहर जानती कहाँ स्वयं को, 

छोटे से जीवन में अपने 

टकराया करती आख़िर क्यों !


पीड़ा का क्या यही सबब है 

सीमित इक पहचान बनायी, 

माटी का पुतला है यह तन 

स्वप्नों में ही प्रीत रचायी !


कौन जोड़ता है कण-कण को 

किससे मानस क्या बना लहर,

नित्य अजन्मा है असंग जो 

एक तत्व ऐसा भी भीतर ?


17 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 10 नवंबर 2021 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप भी आइएगा ... धन्यवाद!
    !

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल बुधवार (10-11-2021) को चर्चा मंच        "छठी मइया-कुटुंब का मंगल करिये"  (चर्चा अंक-4244)       पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य यह है कि आप उपरोक्त लिंक पर पधार करचर्चा मंच के अंक का अवलोकन करे और अपनी मूल्यवान प्रतिक्रिया से अवगत करायें।
    -- 
    छठी मइया पर्व कीहार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'   

    जवाब देंहटाएं
  3. कौन जोड़ता है कण-कण को
    किससे मानस क्या बना लहर,
    नित्य अजन्मा है असंग जो
    एक तत्व ऐसा भी भीतर ?
    बहुत ही उम्दा रचना!

    जवाब देंहटाएं
  4. सागर के तट पर बैठा हो

    फिर भी कोई, प्यासा ! कहता,


    भाव विभोर कर दिया इस पंक्ति ने।
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
  5. पीड़ा का क्या यही सबब है

    सीमित इक पहचान बनायी,

    माटी का पुतला है यह तन

    स्वप्नों में ही प्रीत रचायी !


    बहुत सुंदर पंक्तियाँ...

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर जीवन दर्शन से परिपूर्ण रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  7. अनीता जी, मनोज जी, विकास जी और जिज्ञासा जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    जवाब देंहटाएं