गुरुवार, दिसंबर 10

हरेक शै के दो पहलू हैं जनाब

 हरेक शै के दो पहलू हैं जनाब

'जो' है खुशी का सबब किसी के लिए 

कुछ उससे ही दुखों के वस्त्र सिले जाते हैं

जमाने में फूल भी तो खिलते हैं

महज फितरत से कांटे ही चुने जाते हैं

दी है खुदा ने पूरी आजादी 

कोई जन्नत, कुछ जहन्नुम से दिल लगाते हैं

शब्द सारे उन्हीं स्वर-वर्ण से बने 

कोई वंदन तो कुछ क्रंदन में पिरोते हैं

मिले हर माल कुदरती बाजार में 

कोई सुकून तो कुछ झंझट लिए जाते हैं

नजर अपनी ही धुंधली है मगर

इल्जाम जमाने को दिए जाते हैं

नजर बदली तो नजारे बदलते 

रंगीन चश्मे लगा श्वेत शै चुने जाते हैं

मुक्कमल आकाश छिपाए भीतर

लोग  पिंजरों में जिंदगी बिताए जाते हैं 

दरिया बहते समंदर ठाठें मारे 

जाने क्यों प्यास दिल से लगाए जाते हैं 

कौन कहता है, रब नहीं, बुद्ध ने कहा

स्वयं बंद आँखों में बसाए जाते हैं !


11 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 11-12-2020) को "दहलीज़ से काई नहीं जाने वाली" (चर्चा अंक- 3912) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित है।
    धन्यवाद.

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. 'जो' है खुशी का सबब किसी के लिए

    कुछ उससे ही दुखों के वस्त्र सिले जाते हैं

    जमाने में फूल भी तो खिलते हैं

    महज फितरत से कांटे ही चुने जाते हैं
    --बहुत खूब!

    जवाब देंहटाएं
  3. नजर अपनी ही धुंधली है मगर
    इल्जाम जमाने को दिए जाते हैं
    नजर बदली तो नजारे बदलते
    रंगीन चश्मे लगा श्वेत शै चुने जाते हैं....बहुत ख़ूब दी..सुंदर अभिव्यक्ति..।

    जवाब देंहटाएं
  4. मुक्कमल आकाश छिपाए भीतर
    लोग पिंजरों में जिंदगी बिताए जाते हैं

    बेहतरीन रचना ...💐

    जवाब देंहटाएं
  5. कौन कहता है, रब नहीं, बुद्ध ने कहा
    स्वयं बंद आँखों में बसाए जाते हैं !

    श्रेष्ठ रचना। 🙏🌹🙏

    जवाब देंहटाएं
  6. नजर अपनी ही धुंधली है मगर
    इल्जाम जमाने को दिए जाते हैं

    सुंदर सृजन....

    जवाब देंहटाएं
  7. नजर अपनी ही धुंधली है मगर
    इल्जाम जमाने को दिए जाते हैं
    नजर बदली तो नजारे बदलते
    रंगीन चश्मे लगा श्वेत शै चुने जाते हैं..
    वाह!!!
    लाजवाब सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  8. सुशील जी, कविता जी, ओंकार जी, जिज्ञासा जी, विकास जी, डा वर्षा, डा शरद और सुधा जी आप सभी का स्वागत व हृदय से आभार !

    जवाब देंहटाएं