बुधवार, मार्च 3

मन सुमन बना खिलना चाहे

मन सुमन बना खिलना चाहे 

इस पल में कल को ले आना 

बीती बात को दोहराना 

दिलों की पुरानी आदत है !

जीवन प्रतिक्षण कुछ और बने 
रहो गतिशील बस यही कहे 
मुड़ देखे, मन की चाहत है !

हर घटना कुछ दे मुक्त हुई 
वह घड़ी स्वयं में  रिक्त हुई  
  जा टिकना मिथ्या राहत है !
 
नव जीवन में जगना चाहे 
मन सुमन बना खिलना चाहे 
जो पल में जिए इबादत है !

मृत को क्यों ‘अब’ में ढोएं हम 
नित नवल निशा में सोएं  हम 
रहे संग सदा विरासत है !

 

20 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 03 मार्च 2021 को साझा की गई है.........  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. "जीवन प्रतिक्षण कुछ और बने
    रहो गतिशील बस यही कहे
    मुड़ देखे, मन की चाहत है !"


    बहुत अच्छी बात कही आपने।

    जवाब देंहटाएं
  3. सुंदर और सकारात्मक सोच लिए हुए प्यारी कविता ।

    जवाब देंहटाएं
  4. सकारात्मक सोच कविता अच्छी है

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत प्यारा सा गीत...

    सादर,
    डॉ. वर्षा सिंह

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 04.03.2021 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा| आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर प्रेरक कविता आदरणीय अनीता दीदी, सादर नमन ..

    जवाब देंहटाएं
  8. आप सभी विद्वजनों का स्वागत व आभार !

    जवाब देंहटाएं
  9. नव जीवन में जगना चाहे
    मन सुमन बना खिलना चाहे
    जो पल में जिए इबादत है !
    बहुत सुन्दर संदेश देती बेहतरीन रचना । सादर नमन ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनुराधा जी व मीना जी स्वागत व आभार !

      हटाएं
  10. वाह....
    बहुत सुन्दर बात ..कितना कुछ कह दिया इन साधारण से शब्दों में..
    बहुत बढ़िया..

    जवाब देंहटाएं