सोमवार, जुलाई 19

लुटाता सुवास रंग

लुटाता सुवास रंग 

तृप्ति की शाल ओढ़े 
खिलता है हरसिंगार, 
पाया जो जीवन से 
बाँट देता निर्विकार !

कंपित ना हुआ गात 
घाम, मेह, शीत आए, 
तपा, भीगा, झूमता 
फूलों में मुस्कुराए !

जीवित है काफ़ी है 
नहीं कोई माँग और, 
लुटाता सुवास रंग 
रात खिलता झरे भोर !

एक उसी जगह खड़ा 
राही थम जाते सभी, 
देखते निगाहें भर 
सुवास मधुर जाएँ पी !

जीवन भी ऐसा ही 
है भीतर समान सदा,
देता रहे अनगिनत 
अहर्निश वरदान प्रदा !


19 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर ,ऐसा लग रहा हरसिंगार की सुगंध मन में बस गयी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सुंदर प्रतिक्रिया से कविता ने अपना लक्ष्य पा लिया, स्वागत व आभार !

      हटाएं
  2. जिह्वा पर अमृत बूंद सा ... अहा!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुभकामनायें अमृता जी, आपका काव्य के आस्वादन का अंदाज ही अनोखा है !

      हटाएं
  3. जीवन भी ऐसा ही
    है भीतर समान सदा,
    देता रहे अनगिनत
    अहर्निश वरदान प्रदा.. बहुत सुंदर!

    जवाब देंहटाएं
  4. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (20-7-21) को "प्राकृतिक सुषमा"(चर्चा अंक- 4131) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    --
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  5. जीवन भी ऐसा ही
    है भीतर समान सदा,
    देता रहे अनगिनत
    अहर्निश वरदान प्रदा !

    वाह क्या सार लिखा आपने
    अति मधुरमं।
    जी प्रणाम
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर!
    हरसिंगार ने कविता का किया श्रृंगार।
    अभिनव।

    जवाब देंहटाएं
  7. तृप्ति की शाल ओढ़े
    खिलता है हरसिंगार,
    पाया जो जीवन से
    बाँट देता निर्विकार..बहुत ही सुंदर सृजन।
    सादर

    जवाब देंहटाएं