रविवार, जनवरी 16

जब जागो तभी सवेरा है

जब जागो तभी सवेरा है 


चढ़ आया हो सूरज नभ पर 

निद्रा में गहन अँधेरा है, 

सही कह गए परम सयाने 

जब जागो तभी सवेरा है !


सोए-सोए युग बीते हैं 

जाने कब आँख खुले अपनी, 

निज हाथों से छलते खुद को 

तज पाते नहीं जब आसक्ति !


कुदरत चेताती है हर पल 

हम आदतों के ग़ुलाम बने, 

गुरु के वचनों को सदा भुला 

मन्मुख होकर जीते रहते !


जब बारी आती तजने की 

हम झट प्रकाश को तज देते, 

वह अंतर्यामी जाग रहा 

दस्तक ना उसके दर देते !


वह हर अभाव को हर लेता 

उसकी छाया में सब पलते, 

कोई कमी नहीं शेष रहे 

यदि उसके जैसे हो पाते !


11 टिप्‍पणियां:

  1. चढ़ आया हो सूरज नभ पर
    निद्रा में गहन अँधेरा है,
    सही कह गए परम सयाने
    जब जागो तभी सवेरा है !
    सुन्दर सार्थक और सराहनीय सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  2. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (17-01-2022 ) को 'आने वाला देश में, अब फिर से ऋतुराज' (चर्चा अंक 4312) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है। 12:01 AM के बाद प्रस्तुति ब्लॉग 'चर्चामंच' पर उपलब्ध होगी।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
  3. मन पर छाप छोड़ने वाली रचना। सराहनीय ।

    जवाब देंहटाएं
  4. कुदरत चेताती है हर पल

    हम आदतों के ग़ुलाम बने,

    गुरु के वचनों को सदा भुला

    मन्मुख होकर जीते रहते.... बहुत सुंदर सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर व सार्थक रचना

    जवाब देंहटाएं
  6. संगीता जी, मीना जी, मिश्रा जी, अनीता जी, नितीश जी व मनीषा जी आप सभी का स्वागत व हृदय से आभार !

    जवाब देंहटाएं
  7. यदि केवल भाव संप्रेषित करने वाली कोई विधा होती तो शब्दों को कभी माध्यम नहीं होना होता । नि: शब्द .....

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाह! शब्दों के पार से भी आपकी प्रतिक्रिया पहुँच रही है अमृता जी!

      हटाएं