सोमवार, अप्रैल 5

क्यों रहे मन घाट सूना


क्यों रहे मन घाट सूना


पकड़ छोड़ें, जकड़ छोड़ें 

 भीत सारी आज तोड़ें, 

बन्द है जो निर्झरी सी  

प्रीत की वह धार छोड़ें !


स्रोत जिसका कहाँ जाने 

कैद है दिल की गुफा में, 

कोई बिन भीगे रहे न 

आज तो हर बाँध तोड़ें !


रंग कुदरत ने बिखेरे 

क्यों रहे मन घाट सूना,

बह रही जब मदिर ख़ुशबू

बहा आँसूं हाथ जोड़ें !


जो मिले, भीगे, तरल हो 

टूट जाये हर कगार,  

पिघल जाये दिल यह पाहन 

भेद का हर रूप छोड़ें !


 

12 टिप्‍पणियां:

  1. मन को भिगो देने वाली कविता रची है अनीता जी आपने । अभिनंदन ।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 05 अप्रैल 2021 शाम 5.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर अनुपम कृति ।

    जवाब देंहटाएं
  4. आप सभी विद्वजनों का स्वागत व आभार !

    जवाब देंहटाएं
  5. स्रोत जिसका कहाँ जाने

    कैद है दिल की गुफा में,

    कोई बिन भीगे रहे न

    आज तो हर बाँध तोड़ें !
    बहुत सुंदर गीत । सब आपस में मिलें , सरल और तरल रहें ।

    जवाब देंहटाएं