बुधवार, अप्रैल 21

राम की छवियाँ जो हर मन में बसी हैं

 राम की छवियाँ जो हर मन में बसी हैं 

पैरों में पैजनियां पहने 

घुटनों-घुटनों चलते राम, 

माँ हाथों में लिए कटोरी

आगे आगे दौड़ते  राम !


गुरुकुल में आंगन बुहारते 

गुरू चरणों में झुकते राम, 

भाइयों व मित्रों को पहले 

निज हाथों से खिलाते राम !


ताड़का सुबाहु विनाश किया 

 यज्ञ की रक्षा करते राम, 

शिव का धनुष सहज ही तोडा 

जनक सुता को वरते राम !


जन-जन के दुःख दर्द को सुनें 

अयोध्या के दुलारे राम, 

राजा उन्हें बनाना चाहें  

पिता नयनों के तारे राम !


माँ की चाहना पूरी करने  

जंगल-जंगल घूमते राम, 

सीता की हर ख़ुशी चाहते 

हिरन के पीछे जाते राम !


जटायु को गोदी में लेकर 

आँसूं बहाते व्याकुल राम, 

खग, मृग, वृक्षों, बेल लता से 

प्रिया का पता पूछते राम !


शबरी के जूठे बेरों को 

बहुत स्वाद ले खाते राम, 

हनुमान कांधों पर बैठे 

सुग्रीव मित्र बनाते राम !


छुप कर बालि को तीर चलाया 

दुष्टदलन भी करते राम, 

हनुमान को दी अंगूठी 

याद सीता को करते राम !


सागर पर एक सेतु बनाया 

शिव की पूजा करते राम, 

असुरों का विनाश कर लौटे 

पुनः अयोध्या आते राम !


सारे भूमण्डल में फैली 

रामगाथा में बसते राम, 

जन्मे चैत्र शुक्ल नवमी को

मर्यादा हर सिखाते राम !



15 टिप्‍पणियां:

  1. सारे भूमण्डल में फैली

    रामगाथा में बसते राम,

    जन्मे चैत्र शुक्ल नवमी को

    मर्यादा हर सिखाते राम !

    पूरी रामायण ही चन्द छंद में समाहित कर दी ... बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्वागत व आभार संगीता जी, रामनवमी की शुभकामनायें !

      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचना।
    --
    श्री राम नवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    मित्रों पिछले तीन दिनों से मेरी तबियत ठीक नहीं है।
    खुुद को कमरे में कैद कर रखा है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए बहुत बहुत शुभकामनाएं !

      हटाएं
  3. बहुत सुंदर,राम की गाथा सुनाती सुंदर रचना ।दशा-दिशा बदली-बदली है, रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं एवम बधाई 🌹🌹

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 22-04-2021 को चर्चा – 4,044 में दिया गया है।
    आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी।
    धन्यवाद सहित
    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही सुंदर मन मोहता सृजन आदरणीय दी।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  6. सारे भूमण्डल में फैली

    रामगाथा में बसते राम,

    जन्मे चैत्र शुक्ल नवमी को

    मर्यादा हर सिखाते राम !

    राम चरित्र का गुणगान करती अति सुंदर सृजन अनीता जी ,सादर नमन आपको

    जवाब देंहटाएं