मंगलवार, अप्रैल 27

पावन परिमल पुष्प सरीखा

पावन परिमल पुष्प सरीखा
एक चेतना! चिंगारी हूँ
एक ऊर्जा सदा बहे जो,
सत्य एक धर रूप हजारों
परम सत्य के संग रहे जो !

अविरत गतिमय ज्योतिपुंज हूँ
निर्बाधित संगीत अनोखा,
सहज प्रेम की निर्मल धारा
पावन परिमल पुष्प सरीखा !

चट्टानों सा अडिग धैर्य हूँ
कल-कल मर्मर ध्वनि अति कोमल,
मुक्त हास्य नव शिशु अधरों का
श्रद्धा परम अटूट निराली !

अन्तरिक्ष भी शरमा जाये
ऐसी ऊँची इक उड़ान हूँ,
पल में नापे ब्रह्मांडों को
त्वरा युक्त इक महायान हूँ !

एक शाश्वत सतत् प्रवाह जो 
शिखरों चढ़ा घाटियों उतरा,
पाया है समतल जिसने अब
सहज रूप है जिसका बिखरा !

23 टिप्‍पणियां:

  1. सम्भवतः ये उद्गार आपने अपने मन के लिए व्यक्त किए हैं। अत्यंत सुंदर शब्दों से सजी है यह कविता। पढ़कर मन को शीतलता एवं आनंद की अनुभूति हुई।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 28 अप्रैल 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. सत्य के कितने स्वरूप !बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!!!

    जवाब देंहटाएं
  4. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (२७-०४-२०२१) को 'चुप्पियां दरवाजा बंद कर रहीं '(चर्चा अंक-४०५०) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  5. आदरणीया मैम, बहुत ही सुंदर रचना जो हमें मानव की उच्चता औरह.मारी आत्मा के नित्य निर्मल और आनंदरूप होने का स्मरण कराती है । आपकी यह कविता पढ़ कर मुझे गोस्वामी तुलसीदासजी की चौपाई याद आ गई :-।। ईश्वर अंश जीव अविनाशी। चेतन अमल सहज सुख राशि ।। हृदय से आभार इस सुंदर रचना के लिए व आपको प्रणाम ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय अनंता जी, आपकी इस सुंदर प्रीतिक्रिया ( प्रतिक्रिया नहीं ) पढ़कर आनंद हुआ, स्वागत है !

      हटाएं
  6. वाह! अद्भुत! सुंदर व्यजंनाएं सुंदर कथन ।
    बहुत सुंदर सृजन।
    मन में अनुराग जगाती रचना।
    सस्नेह।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. कविता आपको अच्छी लगी जानकर खुशी हुई, स्वागत व आभार !

      हटाएं
  7. जीव,अपना मूल रूप पहचान ले तो उसकी अनुभूति ऐसी ही आनन्दमय होती है.निर्मल मन को उसका आभास अनायास मिल जाता है.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाह ! कितने सुंदर शब्दों में आपने जीवन के परम सत्य को कह दिया है , स्वागत व आभार !

      हटाएं
  8. अनुपम कृति । हार्दिक आभार एवं शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
  9. एक शाश्वत सतत् प्रवाह जो
    शिखरों चढ़ा घाटियों उतरा,
    पाया है समतल जिसने अब
    सहज रूप है जिसका बिखरा !
    बहुत सुंदर शब्दों में आपने जीव को उसके वास्तविक स्वरूप की पहचान कराई है। सादर।

    जवाब देंहटाएं