सोमवार, मई 17

आदमी


आदमी 

राहबर आये हजारों इस जहाँ में 
आदमी फिर भी भटकता है यहाँ पर !

बेवजह सी बात पर भौहें चढ़ाता  
राह तकता है भला बन शांति की फिर

आदतों के जाल में जकड़ा हुआ पर 
किस्से मुक्ति के सुनाता जोश भर कर  

खुद ही गढ़ता बुत उन्हीं से मांगता 
जाने कितने स्वांग भरता भेष धर कर 

इस हिमाकत पर न सदके जाये कौन 
हर युद्ध करता शांति का नाम लेकर  !

उल्टे-सीधे काम भी सभी हो रहे 
है रात-दिन जब मौत का जारी कहर  !
 

12 टिप्‍पणियां:

  1. This is really fantastic website list and I have bookmark you site to come again and again.hunk water

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 18 मई 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. इंसानी फितरत है, सबकुछ जानते- देखते हुए भी समझने के तैयार नहीं। कुछ लोगों के ह्रदय में तो लगता है जैसे मानवीय संवेदनाओं के लिए कोई जगह ही नहीं बनी है

    बहुत सही

    जवाब देंहटाएं
  4. खुद ही गढ़ता बुत उन्हीं से मांगता
    जाने कितने स्वांग भरता भेष धर कर ।

    वाह .... आज के हालात और इंसान की सोच सबको कह दिया ।

    जवाब देंहटाएं
  5. विचारणीय प्रभावी पंक्तियाँ।

    जवाब देंहटाएं
  6. स्वागत व आभार संगीता जी व अनुपमा जी !

    जवाब देंहटाएं
  7. खुद ही गढ़ता बुत उन्हीं से मांगता
    जाने कितने स्वांग भरता भेष धर कर ।
    बहुत ही सुन्दर सटीक एवं समसामयिक सृजन
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  8. आदतों के जाल में जकड़ा हुआ पर
    किस्से मुक्ति के सुनाता जोश भर कर

    खुद ही गढ़ता बुत उन्हीं से मांगता
    जाने कितने स्वांग भरता भेष धर कर ----वाह बहुत गहन लेखन।

    जवाब देंहटाएं

  9. खुद ही गढ़ता बुत उन्हीं से मांगता
    जाने कितने स्वांग भरता भेष धर कर

    इस हिमाकत पर न सदके जाये कौन
    हर युद्ध करता शांति का नाम लेकर !..सत्य से साक्षात्कार साक्षात्कार करती उत्कृष्ट रचना ।

    जवाब देंहटाएं