शुक्रवार, मई 28

भीतर रस का स्रोत बहेगा

भीतर रस का स्रोत बहेगा 


छा जाएं जब भी बाधाएं 

श्रद्धा का इक दीप जला लें, 

दुर्गम पथ भी सरल बनेगा

जिसके कोमल उजियाले में !


एक ज्योति विश्वास की अटल  

अंतर्मन में रहे प्रज्ज्वलित, 

जीवन पथ को उजियारा कर 

कटे यात्रा होकर प्रमुदित !


कोई साथ सदा है अपने 

भाव यदि यही प्रबल रहेगा, 

दुख-पीड़ा के गहन क्षणों में 

भीतर रस का स्रोत बहेगा !


श्रद्धालु ही स्वयं को जाने 

कैसे उससे डोर बँधी है,

भटक रहा था अंधकार में 

अब भीतर रोशनी घटी है !


जिसने भी यह सृष्टि रचाई 

दिल का इससे क्या है नाता,

एक भरोसा, एक आसरा

जीवन में अद्भुत बल भरता !

 

13 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (29 -5-21) को "वो सुबह कभी तो आएगी..."(4080) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    --
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  2. एक भरोसा, एक आसरा
    जीवन में अद्भुत बल भरता !
    सच, उसी आसरे की डोर थामे चलते चले जा रहे हैं। एक अदृश्य शक्ति कहती है, घबराओ मत मैं तुम्हारे साथ हूँ।

    जवाब देंहटाएं
  3. जिसने भी यह सृष्टि रचाई

    दिल का इससे क्या है नाता,

    एक भरोसा, एक आसरा

    जीवन में अद्भुत बल भरता ! प्रभावी रचना।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर भीतर रस का स्रोत बहेगा

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत प्यारी रचना है , सुंदर शब्दों का चयन सुंदर भाव।

    जवाब देंहटाएं
  6. आप सभी सुधीजनों का स्वागत व आभार !

    जवाब देंहटाएं
  7. जीवन में उस अदृश्य सहारे की बहुत जरूरत है,को जीवन नैया को पार लगता है,और जो आत्मा में विराजमान है, सुन्दर रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  8. कोई साथ सदा है अपने
    भाव यदि यही प्रबल रहेगा,
    दुख-पीड़ा के गहन क्षणों में
    भीतर रस का स्रोत बहेगा !
    वाह...बहुत सुन्दर भाव💕

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर ... श्रद्धा हो मन में तो स्विकारिता वैसे ही बढ़ जाती है ...
    लाजवाब रचना ...

    जवाब देंहटाएं
  10. जिज्ञासा जी, उषा जी, दिगम्बर जी व अनिता जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    जवाब देंहटाएं