मंगलवार, सितंबर 29

नाचती इक ऊर्जा ही

नाचती इक ऊर्जा ही 


नित नवीन निपट अछूती

इक मनोहरी ज्योत्स्ना है,

सुन सको तो सुनो उसकी 

आहट ! यह न  कल्पना है !


गूँज कोई नाद अभिनव 

हर शिरा में बह रहा है,

वह अदेखा, जानता सब 

न जाने क्या कह रहा है !


आँख मूँदे श्रवण रोके 

झाँक अंतर मन टटोलो, 

ज्योति की इक धार बहती 

हृदय की हर गाँठ खोलो !


नाचती इक ऊर्जा ही 

प्राण बनकर संचरित है, 

जानती सब पर अजानी

पुष्प बन कर उल्लसित है !

 

8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (30-09-2020) को   "गुलो-बुलबुल का हसीं बाग  उजड़ता क्यूं है"  (चर्चा अंक-3840)    पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं

  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 30 सितम्बर 2020 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. नाचती इक ऊर्जा ही
    प्राण बनकर संचरित है

    बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना...

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह अनीता जी, आँख मूँदे श्रवण रोके

    झाँक अंतर मन टटोलो,

    ज्योति की इक धार बहती

    हृदय की हर गाँठ खोलो !... आध्यात्म में सजी रचना ... बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं