सोमवार, अक्तूबर 4

अनंत के दर्पण में

अनंत के दर्पण में 


अंतर के तनाव को 

आत्मा के अभाव को 

भावों का रूप बनाकर  

कविता रचती है !

मानो पंक में कमल उगाती  

जीवन में कुछ अर्थ भरती है !

इस अंतहीन दुनिया में 

अरबों मस्तिष्कों के 

 साथ, एक नाता बांधती  

ज्यों अधर में ठहरती है !

अनंत के दर्पण में 

अनायास ही संवरती

बार-बार सच का सामना कराती  

जो अवाक कर दे 

वही बात सुनाती है !

अनावृत हो आत्मा 

गिर जाएँ सारे आवरण 

तभी वह उतरती  

डोलते हुए भंवर में 

टिकने को थल देती है !


8 टिप्‍पणियां:

  1. वाह सुन्दर यात्रा शब्दों की कविता में!!

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 05 अक्टूबर 2021 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. ज्योति जी, उर्मिला जी व भारती जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    जवाब देंहटाएं